Saturday, July 12, 2014

पार्वती, सीता, रुक्मणी और द्रौपदी इन चारो देवियो मे से.....


Friday, July 11, 2014

क्रोध को एक प्रकार की ताकत मानने वालो से.....

Thursday, July 10, 2014

दौलत की भूख ऐसी लगी.....

दौलत की भूख ऐसी लगी
की कमाने निकल गये 
जब दौलत मिली तो
हाथ से रिश्ते निकल गये 
बच्चो के साथ रहने की
फुरसत ना मिल सकी
फुरसत मिली तो बच्चे
खुद कमाने निकल गये...!!!


Wednesday, July 9, 2014

दुनिया का हर शॉक़...

दुनिया का हर शॉक़...
पाला नहीं जाता,
काँच के खिलोनो को...
उछाला नहीं जाता,
मेहनत करने से हो जाती है...
मुश्क़िले आसान,
क्यूंकि हर काम तक़दीर पर
टाला नहीं जाता...!!!


Monday, July 7, 2014

जन्म के पहले कहा थे?

जन्म के पहले कहा थे?
वह प्रश्न जितना जटिल है,
उतनाही जटिल प्रश्न यह भी है,
की मृत्यु के बाद कहाँ होंगे?
इन्ही दो जटिल प्रश्नो के
बीच का अधूरा टुकड़ा

अर्थात जीवन...!!!


Sunday, July 6, 2014

भक्त - भगवान आपके लिये १०० साल कितने होते है?

भक्त - भगवान आपके लिये १०० साल कितने होते है?
भगवान - एक सेकेंड...!!!
भक्त - आपके लिये करोड़ रुपइया कितने होते है?
भगवान - एक रुपइया...!!!
भक्त - मूज़े आपका एक रुपइया दे दो?
भगवान - तू एक सेकेंड खड़ा रह...!!!
वाह वाह वाह
क्या उत्तर दिया भगवान ने...!!!


Saturday, July 5, 2014

कितना अधूरा लगता है तब जब .....

कितना अधूरा लगता है तब जब,
बदल हो पर बारिश ना हो,
जब ज़िंदगी हो पर प्यार ना हो,
जब आंखे हो पर ख्वाब ना हो,
और जब कोई अपना हो पर साथ ना हो.


हर किसी को अपने .....

हर किसी को अपने
ज्ञान का
अभिमान
 तो होता है,
मगर.....
अपने अभिमान का
ज्ञान
 नहीं होता..!!


Friday, July 4, 2014

प्रतिभा का विकाश .....

प्रतिभा का विकाश
शांत वातावरण मैं होता है.....
और
चरित्रा का विकाश
मानव जीवन के तेज प्रवाह मैं...!!!



Thursday, July 3, 2014

जब मोहब्बत बेहिसाब की .....

"जब मोहब्बत बेहिसाब की
 तो ज़ख्मो का
हिसाब
क्या करना।"
अक्ल कहती है की
 मारा जाएगा,
इश्क कहता है की
देखा
जाएगा.....


बदलती चीज़े हमेशा .....

खूबसूरत लाइन .....
बदलती चीज़े हमेशा अच्छी लगती है.
पर,
बदलते हुए लोग नहीं.....
So never change ur originality for any one.


आग दिल में लगी .....

आग दिल में लगी
जब वो खफा हुए 
महसूस हुआ तब
जब वो जुदा हुए 
करके वफ़ा
कुछ दे सका वो
पर बहुत कुछ दे गया
जब वो बेवफा हुए....


रह न पाओगे भुला कर देख लो .....

रह पाओगे भुला कर देख लो, 
यकीं आये तो आजमा कर देख लो,
हर जगह महसूस होगी मेरी कमी, 
अपनी महफ़िल को कितना भी सजा कर देख लो


ऐ ख़ुदा .....

ऐ ख़ुदा,
तुने गुल को गुलशन में जगह दी,
पानी को दरिया में जगह दी,
तू उसको जन्नत में जगह देना,
जिसने मुझे अपने "दिल" में जगह दी..


हसीन आँखों को पढ़ने का .....

हसीन आँखों को पढ़ने का
 अभी तक शौक है मुझको,
मुहब्बत में उजड़ कर भी
 मेरी ये आदत नहीं बदली..


ना कर इतना गरूर ....

ना कर इतना गरूर ....
अपने नशे पर शराब,
तुझ से जयदा नशा रखती है,
आँखें किसी की......


अपने कदमों के निशान.....

अपने कदमों के निशान
 मेरे रास्ते से हटा देना,
कही ये ना हो के में चलते-चलते
 फिर तेरे पास जाऊ…..


आज भी कितना नादान है दिल .....


दिल तो कहता है की .....

दिल तो कहता है कि छोड़ जाऊं 
ये दुनियां हमेशा के लिए ........
फिर ख्याल आता है 
कि वो नफरत किस से करेंगे 
मेरे चले जाने के बाद ..


ब्रह्मा जी की बनाई .....


Wednesday, July 2, 2014

पत्थर सा दिल कही से .....


अज्ञान खराब है .....

अज्ञान खराब है यह सही है,
लेकिन जानने की इच्छा ही ना करना,
यह उससे भी अधिक खराब है।

हम ने कहा दिल .....

हम ने कहा!!! दिल दे दो और जान ले लो 
पर वो कमाल का सौदागर निकला 
दिल बी नही दिया और जान बी ले ली